ALONE SHARABI SHAYARI IN HINDI

alone shayari in hindi, hindi me alone shayari, akela shayari in hindi, best sharabi alone shayri, alone sharabi shayri in hindi, hindi me alone shayri on sharabi, latest alone shayari on shrabi in hindi, best ever alone shayaryi on sharabi, new and best alone sahrabi shayari in hindi.


ALONE SHARABI SHAYARI IN HINDI





Shraab Dard Ki Dawa Hai
Peene Se Koi Khraabi Nahi
Dil Ke Dard Se Peete Hain
Waise Hum Shraabi Nahi…

शराब दर्द की दवा है ,
पीने से कोई खराबी नहीं। 
दिल के दर्द से पीते है ,
वैसे हम शराबी नहीं। 

---------------------------------------

Jaam Se Kabhi Itni Nafrat Naa Karo
Ki Peena Chaho To Kabhi Pee Na Sako
Kisi Ko Bhi Itna Pyar Na Karo
Ki Bichad Kar Jeena Chaho To Jee Na Sako

जाम से कभी इतनी नफरत ना करो ,
की पीना चाहो तो कभी पी न सको। 
किसी को भी इतना प्यार न करो ,
की बिछड़ कर जीना चाहो तो जी ना सको। 

---------------------------------------------

Log Peete Hai Sharab Mehkhane Ja Ja Kar Pee Hai
Jo Do Pal Mein Utar Jayegi
Humne To Pee Hai Apne Mehboob Ki Aankho Se
Jo Umar Bhar Naa Utar Payegi.

लोग जीते है शराब मयखाने जा जा कर पीते है ,
जो दो पल में उतर जाएगी। 
हमने तो पी है अपने मेहबूब की आँखों से ,
जो उम्र भर ना उतर पायेगी। 

--------------------------------------------

Usne Hothon Se Chu Kar
Pani Ko Gulabi Kar Diya
Hamari Baat To Aur Thi Yaaro
Machliyo Tak Ko Bhi Sharabhi Kar Diya

उसने होठो से छू का ,
पानी को गुलाबी कर दिया। 
हमारी बात तो और थी यारो ,
मछलियों तक को भी शराबी कर दिया। 



-------------------------------------------

Dard Is Kadar Mila Ki Ghabra Ke Pii Gaye
Thodi Si Khushi Mili To Mila Ke Pii Gaye
Yun To Na Thi Bachpan Se Pine Ki Aadat
Sharaab Ko Tanha Dekha Taras Kha Ke Pii Gaye

दर्द इस कदर मिला की घबरा के पी गए ,
थोड़ी सी ख़ुशी मिली तो मिला के पी गए। 
यु तो न थी बचपन से पीने की आदत ,
शराब को तनहा देखा  तरस खा के पी गए। 

--------------------------------------------

Saqii Bus Itna Sa Kaam Kar
Ye Sare Ilzaam Mere Naam-Kar
Ek-Do Paimane Se Mera Kya Hoga
Karna Hai To Sara Maikhana Mere Naam-Kar

साकी बस इतना सा काम कर ,
ये सारे इलज़ाम मेरे नाम कर। 
एक दो पैमाने से मेरा किया होगा ,
करना है तो सारा मयखाना मेरे नाम कर। 

-----------------------------------------------

Sharabi Ilzaam Sharaab Ko Deta Hai
Ashiq Bhi Ilzaam Shabaab Ko Deta Hai
Koi Nahi Karta, Kabool Apni Bhool
Kantaa Bhi Ilzaam Gulaab Ko Deta Hai

शराबी इलज़ाम शराब को देता है ,
आशिक भी इलज़ाम शबाब को  देता है। 
कोई नहीं करता , कबूल अपनी भूल ,
कांटा भी इलज़ाम गुलाब को देता है। 

------------------------------------------------

Raat Chup Chap Hai Par Chand Khamosh Nahi,
Kaise Kah Doon K Aaj Phir Hosh Nahi,
Aisa Dooba Hoon Main Tumhari Aakhon Mein,
Haat Mein Jaam Hai Par Pine Ka Hosh Nahi….

रात चुप चाप है पर चाँद खामोश नहीं ,
कैसे कह दू के आज फिर होश नहीं। 
ऐसा डूबा हु मैं तुम्हारी आँखों में ,
हाथ में जाम है पर पीने का होश नहीं। 

------------------------------------------

Ibarat Chapii Thii Mehkhane Par
Har Shkhsiyat Thi Wahaan Behkane Parr
Maine Sharab Nahi Pee Laakh Manane Par
Kambakt Teraa Naam Tak Chapa Tha Paimane Parr

इबरा छपी थी मयखाने पर ,
हर शिकायत थी वहा बहकाने पर। 
मेने शराब नहीं पि लाख मनाने पर ,
कम्बख्त तेरा नाम तक छापा था पैमाने पर। 



----------------------------------------------

Maikhane Saje The,Jam Ka Tha Daur
Jam Me Kya Tha Ye Kisne Kiya Tha Gaur
Jam Me Gum Tha Mere Armano Ka
Aur Sab Kahe Rahe The Ek Aur, Ek Aur

मयखाने सजे थे जाम का था दौर ,
जान में किया था किसने  किया था गौर। 
जाम में गम था मेरे अरमानो का ,
 और सब कह रहे थे एक और एक और। 

---------------------------------------------

Pine De Thodi Abhi Ki Hosh Baki Hai
Tere Yaado Ka Ek Lamha Baki Hain
Jana Hai Ladkhadate Hue Mehkhane Se
Pine De Thodi In Saanso Mein Jaan Ab Bhi Baaki Hain

पीने दे थोड़ी अभी की होश बाकी है ,
तेरे यादो का एक लम्हा बाकी है। 
जाना है लड़खड़ाते हुए मयखाने से ,
पीने दे थोड़ी इन साँसों में जान अब भी बाकी है। 

---------------------------------------------

Duriyaa Aasani Se Mitati Hai Sharaab,
Majburiyon Ko Nashe Me Nachati Hai Sharaab….
Aansuwo Ko Mila De Tu Apne Har Ek Jaam Me,
Fir Dekh Kaise Yaadon Ko Aur Kareeb Lati Hai

दूरिया आसानी से मिटाती है शराब ,
मजबूरियो को नशे में नाचती है शराब। 
आंसुओ को मिला दे तू अपने एक जाम में ,
फिर देख कैसे यादो को और करीब लाती है शराब। 

-----------------------------------------------------------

Mayekhane Me Jam Tut Jata Hai
Ishq Me Dil Tut Jata Hai
Na Jane Kya Rishta Hai Dono Me
Jaam Tute To Ishq Yaad Aata Hai
Dil Tute To Jaam Yaad Aata Hai

मयखाने में जाम टूट जाता है ,
इश्क़ में दिल टूट जाता है। 
ना जाने किया रिश्ता है दोनों में ,
जाम टूटे तो इश्क़ याद आता है ,
दिल टूटे तो जाम याद अत है। 

------------------------------------------

Jamm pi kar apne gam ko kaha kam kia hamne,
Har waqt teri yaadon main in aankhon ko namm kia hamne.
Chaha tha tujhe bhulna par yaad hi kia hamne.
Aur jindagi ke baad bhi kabarr se haath nikaal kar tera hi intezar kia hamne.

जाम पि कर अपने गम को कहा काम किया हमने ,
हर वक्त तेरी यादो  में इन आँखों को नाम किया हमने। 
चाहा था तुझे भीलना पर याद  ही  किया हमने ,
और ज़िन्दगी के बाद भी कबर से हाथ निकाल कर तेरा ही इंतज़ार किया हमने। 

-------------------------------------------------

Akhiyon Se Pee Raha Hu
Main Maikhano Me Jee Rha Hu
Mausam Badal Na Jaaye,Giraao Na Tum Palke
Kahin Meri Zindege Ki Shaam Na Ho Jaaye

आखियो से पी रहा हु ,
मैं मयखानो मैं जी रहा हु। 
मौसम बदल ना जाए , गिराओ न तुम पलके ,
कही में ज़िन्दगी की शाम न हो जाए। 

------------------------------------------

Nash-E-Sharab Mein Shayari
Likhne Ka Alag Sa Maza Aata Hai
Main Nahin Daalta Ras Shayari Me
Ye To Sharab Ke Sang Aa Jata Hai

नाश-ए-शराब में शायरी ,
लिखने का अलग सा मज़ा आता है। 
मैं नहीं डालता रास शायरी में ,
ये तो शराब के संग आ जाता है। 


Previous
Next Post »