BEWAFA DOST SHAYARI IN HINDI

bewafa dost shayari, dost bewafa hai shayari bewafa dost ke liye shayari, new shayari on bewafa dost, best shayari on bewafa dost in hindi, hindi me bewafa dost ke liye shayari, latest bewafa dost ke liye shayari in hindi.

बेवफा दोस्त शायरी इन हिंदी 






Befawa Zamana Hai Aitbaar Mat Karna
Doston Par Bhi Apne Dil Nisar Mat Karna

Milna Doston Se Apne Begaraz Hokar Tum
Dosti Ke Daman Ko Tar-Tar Mat Karna

Dil Ki Baat Logon Ke Lab Par Aa Hi Jaati Hai
Tum Kisi Ko Bhi Apna Raazdaar Mat Karna

Aarzoo Mein Jine Ki Maut Ko Bhula Baitho
Zindagi Se Tum Hargiz Itna Pyar Mat Karna

बेवफा ज़मान है ऐतबार मत करना ,
दोस्तों पर भी अपने दिल निसार मत करना। 

मीणा दोस्तों से अपने बेगराज होकर तुम ,
दोस्ती के दामन को तार तार मत करना। 

दिल की बात लोगो के लैब पर आ ही  जाती है ,
तुम किसी को भी अपना राज़दार मत करना। 

आरज़ू में जीने की मौत को भुला बैठो ,
ज़िन्दगी से तुम हरगिज़ इतना प्यार मत करना। 

--------------------------------------------

Hum Woh Hai Jo Pyar Main Loot Gaye
Sahil Ke Ithna Nazdeek Aakar Bhi Doob Gaye
Un Par Aitabaar Karne Ki Bhool Jo Kardi
Hamare Sare Sapne Toot Gaye

हम वो है जो प्यार में लूट गए ,
साहिल के इतना नज़दीक आकर भी डूब गए। 
उन पर ऐतबार करने की भूल जो करदी ,
हमारे सारे सपने टूट गए 

-------------------------------------------

Us Ajnabi Ka Yun Na Intzaar Karo
Is Aashiq Dil Ka Na Aitbaar Karo
Roj Nikla Kare Kisi Ki Yaad Me Ansu
Itna Kabhi Kisi Se Na Pyaar Karo

उस अजनबी का  न इंतज़ार करो ,
इस आशिक दिल का न ऐतबार करो। 
रोज निकला करे किसी की याद में आंसू ,
इतना कभी किसी से न प्यार करो। 



-----------------------------------------

Woh Keh Gaye Ki Mera Intezaar Mat Karna,
Main Kahu Bhi To Muj Pe Aitbaar Mat Karna,
Wo Kehte Hai Ke Mujhe Tumse Mohabaat Nahi,
Par Tum Kisi Aur Se Pyaar Mat Karna…!!

वो कह गए की मेरा इंतज़ार मत करना ,
मैं खु भी तो मुझ पर ऐतबार मत करना। 
वो कहंते है की मुझे तुमसे मोहब्बाात नहीं ,
पर तुम भी किसी से यार मत करना। 

----------------------------------------

Kisi Na Kisi Pe Kisi Ko Aetbaar Ho Jata Hai
Ajnabi Koi Shaks Yaar Ho Jata Hai
Khubiyon Se Nahin Hoti Mohabbat Sadaa
Khamiyon Se Bhi Aksar Pyar Ho Jata Hai

किसी न किसी पे किसी  को ऐतबार हो जाता है,
अजनबी कोई शक्श यार हो जाता है। 
खूबियो से नहीं होती मोहब्बत सदा ,
कमियों से भी अक्सर प्यार हो जाता है। 

-------------------------------------------------

Mil Mil Ke Bicharrna Mujhe Accha Nahi Lagta
Per Tum Ko Bhi Paane Ka Raasta Nahi Milta
Tere Khaloos-E- Mohabbat Pe Atebaar Hai Itna
Siwa Tere Koi Rishta Sacha Nahi Lagta

 मिल मिल कर बिछड़ना मुझे अच्छा नहीं लगता ,
पर तुम को भी पाने का रास्ता नहीं मिलता। 
तेरे खालूस-ए-मोहब्बत पे ऐतबार है इतना ,
सिवा तेरे कोई रिश्ता सच्चा नहीं लगता। 

----------------------------------------------- 

ausam Ka Aitabar Zayada Nahi Kiya
So Hum Ne Us Se Pyar Zayada Nahi Kiya
Kuch To Faraz Humne Palatnay Me Dair Ki
Or Kuch Us Ne B Intizar Zayada Nahi Kiya

मौसम का इंतज़ार ज़्यादा नहीं  किया ,
सो हम ने उस से प्यार ज्यादा नहीं किया। 
कुछ तो फ़र्ज़ हमने पलटने में देर कर दी ,
ओट कुछ उस ने भी इंतज़ार नहीं किया। 

------------------------------------------------

Wade Kisise Irade Kisi Se
Anhe Kise Se Nigahe Kisi Se

Ab Yaar Tumhra Bharosa Hi Kya
Jo Adhe Hamare Adhe Kisi Ke

Bhool Kar Be Na Sochna
Meri Chahtein Tere Sang Nahi

Tere Bin Odaas Hai Dil Mera
Meri Zindgi Ma Koi Rang Nahi

वादे किसी से  किसी से,
आहे किसी से निगाहें किसी से। 

अब यार तुम्हारा भरोसा हो किया ,
जो आधे हमारे आधे किसी के। 

भूल कर भी ना सोचना ,
मेरी चाहते तेरे संग नहीं ,

तेरे बिन उदास है दिल मेरा ,
मेरी ज़िन्दगी में कोई रंग नहीं। 



-------------------------------------------------- 

Aye Dil Khuda Ki Zaat Pe, Tu Aitebaar Rakh
Paiwasta Rah Shajar Se Umeed E Bahaar Rakh

Mai Dagmaga Ke Doob Na Jaon Unhi Mai Phir
Ankhon Ke Sagharon Mai Na Itna Khumaar Rakh

Lagta Hai Dar, Ke Tujh Se Zamaana Na Cheenle
Mujhko Chupa Ke Khaana E Dil Mai Tu Yaar Rakh

Lamhon Ko Qaid Karle Aur Baton Ko Kar Raqam
Jo Ho Sake To Khushion Ki Har Yaadgaar Rakh

Mai Kar Chuki Hon Tujhse To Iqraar Pyaar Ka
Izhaar Kar Ke Khud Bhi Mera Aitebaaar Rakh

Raahein Bahut Kathin Hain ‘dhani' Ye Pyaar Ki
Qabu Mai Dil Ko Rakh ,Magar Itna Na Yaar Rakh !!!

ए दिल खुदा की ज़ात पे तू ऐतबार रख ,
पैवस्त रह सजर से उम्मीद-ए-बहार रख। 

मैं डगमगा के डूब ना जाओ उन्ही मैं फिर ,
आँखों के सगरो में न इतना खुमार रख। 

लगता है डर के तुझ से ज़माना न छीनले ,
मुझको छुपा के खाना-ए-दिल में तू यार रख। 

लम्हो को कैद करले और बातो को कर रकम ,
जो हो सके तो खशियो की हर यादगार रख 

मैं कर चुकी हु तुझसे तो इकरार प्यार का ,
इज़हार कर के खुद भी मेरा ऐतबार कर। 

रहे बहुत कठिन है धनि ये प्यार की 

Hawaon Ka Bharosa Na Kijiye
Apna Dil Kisi Ko Na Dijiye
Bewafai Hai Insaan Ki Fitrat
Aitbaar Toofano Ka Na Kijiye

हवाओ का भरोसा ना कीजिये ,
अपना दिल किसी को ना दीजिये। 
बेवफा है इंसान की फितरत ,
ऐतबार तूफानों का न कीजिये। 

-------------------------------------------

Yeh Such Hai Doston Kisi Se Pyaar Na Karna,
Kabhi Kisi Ka Aitbaar Na Karna,
Tham Ke Khanjar Apne Hi Hathon Mein,
Bedardi Se Apne Dil Par Vaar Na Karna

ये सच है दोस्तों किसी से प्यार न करना ,
कभी किसी का ऐतबार न करना। 
थाम के खंजर अपने ही हाथो में ,
बेदर्दी से अपने दिल पर वार ना करना। 

----------------------------------------------

Aashiqon Par Aitbaar Mat Karna
Dil Wale Bahot Kam Hote Hai
Pyar Karne Wale Tho Bahot Milte Hai
Par Pyar Nibhane Wale Bahot Kam Hote Hai

आशिको पर ऐतबार मत करना ,
दिल वाले बहुत काम होते है। 
प्यार करने वाले तो बहुत मिलते है ,
पर प्यार निभाने वाले बहुत काम होते हो। 




Previous
Next Post »